Featured

Type Here to Get Search Results !

यूपी में आईसीयू बेड फुल, प्रयागराज में सरकारी के साथ प्राइवेट कोविड अस्पतालों में भी जगह नहीं

0

यूपी में कोरोना के कारण स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही है। लखनऊ में एल-3 अस्पतालों में आईसीयू के बेड फुल हो गए हैं। वहीं प्रयागराज में निजी कोविड अस्पतालों में भी बेड खाली नहीं हैं। राजधानी के सरकारी और निजी एल-3 कोविड अस्पतालों के आईसीयू भर गए हैं। रोजाना यहां 100 से ज्यादा मरीज भर्ती के लिये आते हैं। बेड न मिलने से निराश होकर वापस लौट रहे हैं। पीजीआई, केजीएमयू और लोहिया संस्थान में भारी संख्या में आईसीयू बेड होते हुए भी मरीजों को नहीं मिल पा रहे है। 200 से ज्यादा गम्भीर मरीज इंतजार में हैं।

पीजीआई, केजीएमयू और लोहिया संस्थान समेत निजी मेदान्ता, चंदन मेयो समेत अन्य कोविड अस्पताल में मरीजों की लंबी प्रतिक्षा सूची है। शहीद पथ स्थित निजी अस्पताल ने हाउसफुल का बोर्ड लगा दिया है। वहीं प्रयागराज में सरकारी के साथ निजी अस्पताल भी भर गए हैं। गंभीर मरीजों को भी लौटाया जा रहा है। लोग मरीजों को बचाने के लिए एक से दूसरे अस्पताल के चक्कर काट रहे हैं। 

नया कटरा के प्रदीप कुमार कोरोना से संक्रमित पत्नी को लेकर गुरुवार को एक से दूसरे अस्पताल का चक्कर काटते रहे। पत्नी का ऑक्सीजन लेवल कम होने पर प्रदीप पहले एसआरएन अस्पताल गए। वहां भर्ती करने से मना करने पर प्रदीप पत्नी को लेकर प्रशासन की ओर से चिन्हित निजी अस्पतालों में गए लेकिन सभी ने बेड फुल होने की बात कहकर भर्ती करने से मना कर दिया। इस दौरान स्थिति गंभीर होने पर प्रदीप पुन: एसआरएन अस्पताल गए तो मरीज की हालत देखकर भर्ती किया गया। 

प्रदीप की तरह राकेश मोहन बीमार पत्नी को लेकर दोपहर से एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल का चक्कर काटते रहे। कोरोना से संक्रमित राकेश मोहन की पत्नी का भी ऑक्सीजन लेवल कम हो रहा था। किसी तरह उन्होंने शाम को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। संतोषजनक इलाज नहीं मिलने पर राकेश ने अस्पताल से मरीज को निकाल लिया। प्रदीप और राकेश मोहन की तरह दर्जनों लोग एंबुलेंस और निजी गाड़ियों में मरीजों को लेकर अस्पतालों के चक्कर काटते रहे। इनमें सबसे अधिक कोरोना से ही संक्रमित थे।

Post a comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad