Featured

Type Here to Get Search Results !

पहले सरकारी फिर निजी अस्‍पताल ने किया भर्ती लेने से इनकार, तीसरे अस्‍पताल पहुंचते-पहुंचते मरीज की मौत

0

डॉक्टरों पर कोरोना का खौफ बढ़ता जा रहा है। कोरोना के खौफ के कारण वे मरीजों को भर्ती करने से हिचक रहे हैं। इसके कारण मरीजों की इलाज के बगैर मौत हो जा रही है। मंगलवार को ऐसा ही मामला सामने आया। कोरोना मरीज के नाम पर बीआरडी मेडिकल कॉलेज और एक निजी अस्पताल ने एक मरीज को भर्ती करने से इनकार कर दिया। परिजन जब तक मरीज को दूसरे निजी अस्पताल में लेकर पहुंचते तब तक जान चली गई। परिजनों ने कॉलेज प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की है।

बिछिया कॉलोनी के रहने वाले 67 वर्षीय उपेंद्र मिश्र की मंगलवार को तबीयत खराब हो गई। परिजन आनन-फानन में इलाज के लिए बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ले गए। आरोप है कि डॉक्टरों ने कोरोना मरीज के नाम पर भर्ती करने से इन्कार कर दिया। परिजनों ने जब कोरोना संक्रमित न होने की बात कही तो डॉक्टर प्रमाण मांगने लगे। परिजनों ने काफी कोशिश की मरीज को भर्ती कर लिया जाए, लेकिन किसी ने एक न सुनी। अंत में थक हार कर मेडिकल कॉलेज रोड पर एक बड़े अस्पताल में लेकर गए।

जहां पर कोरोना मरीज की बात कहकर भर्ती नहीं किया गया। काफी देर तक मान-मनौव्वल की कोशिश भी की गई किसी तरह भर्ती करके इलाज शुरू किया जाए। लेकिन वहां भी मरीज को भर्ती नहीं किया गया। अंत में थकहार कर परिजन तारामंडल के एक निजी अस्पताल में लेकर आए। जहां पर पहुंचते ही डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। परिजनों ने बीआरडी मेडिकल कॉलेज पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की है। बीआरडी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. गणेश कुमार ने बताया कि मामले की जानकारी नहीं है। अगर ऐसा है तो मामले की जांच कराई जाएगी।

Post a Comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad