लॉकडाउन में वित्तीय संकट से उबरने के लिए यूपी सरकार ने लिया कई खर्चों में भारी कटौती का फैसला - Dildarnagar News | Ghazipur News✔ ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | लेटेस्ट न्यूज़ इन हिंदी ✔

Breaking News

Tuesday, 19 May 2020

लॉकडाउन में वित्तीय संकट से उबरने के लिए यूपी सरकार ने लिया कई खर्चों में भारी कटौती का फैसला


कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन से उत्पन्न वित्तीय संकट से उबरने के लिए प्रदेश सरकार ने अब कई खर्चों में भारी कटौती की है। बहुत जरूरी होने पर ही कोई नया निर्माण कार्य शुरू होगा। विभागों द्वारा वाहनों की खरीद पर रोक लगा दी गई है। नए पदों के सृजन पर भी रोक लगाई गई है। अप्रासंगिक पद समाप्त करने के आदेश दिए गए हैं। इसके साथ ही कार्यालय व्यय, यात्रा व्यय, स्टेशनरी, अवकाश यात्रा सुविधा आदि के खर्चों में 25 फीसदी की कटौती की गई है। 

अपर मुख्य सचिव वित्त संजीव कुमार मित्तल ने खर्चों में कटौती से संबंधित शासनादेश सोमवार को जारी किया। शासनादेश में कहा है कि लाकडाउन से सरकार के राजस्व में भारी कमी आई है। इस स्थिति में संसाधनों के समुचित उपयोग तथा कैश प्रबंधन के लिए यह फैसले लिए गए हैं।

कम जरूरी राज्य पोषित योजनाएं स्थगित की जाएंगी
सीधे आम जनता को लाभ पहुंचाने वाली राज्य में चल रही केंद्र सहायतित योजनाओं के लिए केंद्रांश के सापेक्ष राज्यांश की धनराशि सरकार जरूरत के मुताबिक चरणों में उपलब्ध कराएगी। विभागों को राज्य पोषित योजनाओं की समीक्षा करने के निर्देश दिए गए हैं। जो योजनाएं बहुत जरूरी हों सिर्फ उन्हीं को चलाया जाए। ऐसी योजनाएं जो बहुत जरूरी नहीं हैं उन्हें स्थगित करने पर विचार किया जाए। 

अप्रासंगिक पद समाप्त होंगे, नए पदों के सृजन पर रोक
विभागों को निर्देश दिया गया है कि अप्रासंगिक हो गए पदों को चिन्हित कर समाप्त करें। इन पदों पर तैनात कर्मचारियों को रिक्त पदों पर समायोजित किया जाए। नए पदों का सृजन विभाग नहीं करेंगे। विभागों में सलाहकार, अध्यक्ष, सदस्य आदि अस्थाई प्रकृति के पदों पर नियुक्तियां की जाती हैं। इनके लिए सहयोगी स्टाफ की व्यवस्था के लिए नए पदों का सृजन नहीं करने को कहा गया है। सरप्लस स्टाफ अथवा आउटसोर्सिंग से सहयोगी स्टाफ का प्रबंध करने को कहा गया है।

No comments:

Post a comment