Featured

Type Here to Get Search Results !

गाजीपुर: वैवाहिक व शुभ कार्यों पर कोरोना संक्रमण का 'ग्रहण'

0

कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। ऐसे में इसका असर वैवाहिक समारोहों पर भी पड़ा है। जनपद में बड़ी संख्या में लोगों ने कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए शादी टाल दी है। अब अक्टूबर नवंबर में तारीख निकलवाकर वैवाहिक रस्में पूरी की जाएंगी।

शुभ कार्यों के लिए इस समय सभी ग्रह-नक्षत्र ठीक हैं। शादी का योग भी बना हुआ है। हालांकि इन सभी नक्षत्रों पर कोरोना वायरस का ग्रहण लग गया है। ऐसा ग्रहण, जिसके कारण 80 फीसद से अधिक वैवाहिक कार्यक्रम रद हो गए हैं। इससे बैंडबाजे, हलवाई, शादी का मंडप सजाने वाले, कारों की बुकिग आदि व्यवसाय से जुड़े लोग प्रभावित हुए हैं। इनकी आर्थिक स्थिति बिगड़ गई है।


बंट गए थे कार्ड, फिर भी रद करनी पड़ी शादी

गोराबाजार क्षेत्र के रहने वाले अशोक सिह की बेटी की 25 अप्रैल को शादी थी। कार्ड भी बांट दिए गए थे। बैंडबाजा आदि की बुकिग भी हो गई थी। बरात बंधवा स्थित एक मैरेज हाल में आनी थी। हालांकि कोरोना ने ऐसा रूप दिखाया कि 25 अप्रैल को होने वाले विवाह को घरवालों ने रद कर दिया। इसी प्रकार मालगोदाम रोड निवासी श्यामलाल की बेटी की बारात 26 अप्रैल को आनी थी। इसके लिए पूरी तैयारी कर ली गई थी। घरवालों ने सोचा था कि 15 अप्रैल के बाद कोरोना का प्रकोप थमने लगेगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ और विवश होकर इनको शादी निरस्त करनी पड़ी।

खतरे को देखते हुए शादी टाल दी

मालगोदाम रोड स्थित गौतमबुद्ध कालोनी के रहने वाले लक्ष्मीकांत सिंह की बेटी की शादी 2 मई को थी। इसके लिए उन्होंने मैरेज हाल को एडवांस देकर बुकिग करा लिया था। हलवाई समेत अन्य लोगों को भी एडवांस दे दिया था, लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए लक्ष्मीकांत ने दूल्हे के घरवालों से बातचीत करते हुए शादी को रद कर दिया। इसी प्रकार बड़ी संख्या में लोगों ने कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए शादी टाल दी है। इन सभी का कहना है कि अब अक्टूबर, नवंबर में तारीख निकलवाकर वैवाहिक रस्में पूरी की जाएंगी।

क्या कहते हैं मैरेज हाल संचालक

बैंडबाजा संचालक सेराज अहमद कहते हैं कि अप्रैल और मई में 10 बुकिग थी, लेकिन इसमें अभी तक चार बुकिग तो रद हो चुकी है। छह बुकिग बची है जो मई के अंतिम सप्ताह की है। ऐसा लग रहा है कि यह भी रद हो जाएगी। इससे धंधा प्रभावित तो हुआ ही है, इससे जुड़े लोगों के सामने भी आर्थिक दिक्कत उत्पन्न हो गई है।

हलवाई के समक्ष आर्थिक संकट

कुकिग कैटरिग का कार्य करने वाले विनय यादव ने कहा कि पिछली बार भी कोरोना महामारी का असर शादी-विवाह पर पड़ा था। इस बार तो स्थिति और भी खराब है। 15 बुकिग मिली थी, लेकिन आठ रद हो चुकी है। जो बची है, इसमें भी कुछ रद होने की आशंका है, कुछ में बेहद कम लोगों की संख्या बताई गई है। ऐसे में आर्थिक संकट खड़ा हो गया है

Post a comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad