Type Here to Get Search Results !

Trending News

घुड़दौड़ प्रतियोगिता, चौसा के मधु सिंह का घोड़ा रहा अव्वल

वासंतिक नवरात्र की नवमी तिथि को पूर्वांचल के प्रसिद्ध शक्तिपीठ के रूप में विख्यात मां कामाख्या धाम पर परंपरागत होने वाले घुड़दौड़ (चेतक प्रतियोगिता) का इस वर्ष शानदार तरीके से आयोजन किया गया। इसमें बिहार चौसा के मधु सिंह का घोड़ा अव्वल रहा। 

अभूतपूर्व प्रदर्शन को देख लोग रोमांचित हो उठे। इस प्रतियोगिता के मुख्य अतिथि जमानियां विधायक ओमप्रकाश सिंह ने प्रथम चक्र के घुड़सवारों को हरी झंडी दिखा कर इसका शुभारंभ किया। इस चेतक प्रतियोगिता में उत्तर प्रदेश व बिहार के कुल 24 घुड़सवारों ने अपने घोड़े के साथ हिस्सा लिया। कुल चार चक्र में प्रतियोगिता चली, जिसमें से प्रथम आये घुड़सवार को अंतिम चौथे चक्र का फाइनल राउंड में पूरे प्रतियोगिता के प्रथम द्वितीय और तृतीय घुड़सवारों सहित बेस्ट घुड़सवार के रूप में चयन किया गया। यह प्रतियोगिता बहुत ही रोमांचकारी रही। 

निर्णायक मंडल की ओर से मधु सिंह चौसा बिहार को प्रथम, मकसूद खान महेशपुर को द्वितीय, राजेन्द्र सिंह रामगढ़ को तृतीय स्थान घोषित किया गया। राजन सिद्दीकी जमानियां को बेस्ट घुड़सवार के खिताब से नवाजा गया। विजेताओं को मुख्य अतिथि विधायक ओमप्रकाश सिंह ने संयुक्त रूप से ट्रॉफी के साथ प्रोत्साहन राशि प्रदान किया। इस देखने के लिए हजारों की भीड़ जुटी रही। लोगों को संबोधित करते हुए ओमप्रकाश सिंह ने कहा कि यहां घुड़दौड़ की यह परंपरा तीन सौ वर्ष पुरानी है।

इस तरह की प्रतियोगिताओं से अपनेपन का एहसास होता है। साथ ही अपनी संस्कृति और सभ्यता को करीब से देखने व जानने का मौका मिलता है। इस तरह के आयोजन से हमारे क्षेत्र का नाम रौशन हो रहा। निर्यायक मंडल में सुधीर सिंह, सचितानंद, धनजी सिंह पूर्व प्रधान शामिल रहे। कार्यक्रम को सफल बनाने में मन्नू सिंह, पिंटू उपाध्याय, अशोक सिंह, हे-राम सिंह, दुर्गा चौरसिया आदि ने मुख्य रूप से योगदान दिया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad