Welcome to Dildarnagar!

Featured

Type Here to Get Search Results !

बच्चों ने दिया CM योगी को नया नाम, जानिए आखिर क्यों बुलाते हैं टॉफी वाले बाबा

0

गोरखपुर के वनटांगिया बस्ती के बच्चे करीब दो दशक से योगी आदित्यनाथ को इसी नाम से जानते हैं। मुख्यमंत्री बनने के बाद भी उनको इसी नाम से जानते हैं। यूं ही नहीं बच्चों में कोई टॉफी बाबा बन जाता है। इसकी वजह बच्चों के प्रति उनका निश्छल और नैसर्गिक प्रेम। शनिवार को सिद्धार्थनगर जिले के डुमरियागंज में बाढ़ पीड़ितों के बीच जब वह पहुंचे, तब भी यही नजारा दिखा। सीएम ने नौनिहालों को गोद में उठा लिया, प्यार-दुलार किया और उन्हें बिस्किट भी खिलाया। 

नौनिहालों के लिए इंसेफेलाइटिस को लेकर सांसद के रूप में उनका संघर्ष और सीएम बनने पर नियंत्रण की समग्र कार्ययोजना की काफी चर्चा है। कोरोना काल के बाद बच्चों के लिए उनकी 'मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना' तो नजीर बन गई। इस योजना के जरिये उन्होंने कोविड से अनाथ हुए बच्चों के भरण पोषण, पढ़ाई और भविष्य निर्माण तक की जिम्मेदारी उठा ली है। जब वह सिद्धार्थनगर जिले में बाढ़ पीड़ितों के बच्चों को गोद में उठाकर दुलार रहे थे तो एक बार फिर यही संदेश था कि नौनिहालों का वर्तमान और भविष्य, दोनों को सुव्यवस्थित करने के लिए उनकी प्रतिबद्धता है। इस दौरान उन्हें इन नौनिहालों के परिजनों को उनकी उचित देखभाल करने की नसीहत भी दी और कहा कि उनकी सरकार हर समय साथ में है इसलिए बाढ़ या अन्य किसी भी परिस्थिति में घबराने की जरूरत नहीं है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को नभ, जल व थल, तीनों मार्गों से बाढ़ की स्थिति जानने के लिए दौरा किया। सिद्धार्थनगर, महराजगंज और गोरखपुर जिले में बाढ़ का हेलीकॉप्टर से हवाई सर्वेक्षण किया। राहत शिविरों में जाकर प्रभावितों से मिले तो वहीं सहजनवा के भुआ शहीद और मैलां गांवों में वह एनडीआरफ की लाइफ बोट से पहुंचे। सहजनवा से सड़क मार्ग से बाढ़ का हाल जानते हुए गोरखपुर स्थित लालडिग्गी राहत शिविर पहुंचे। यहां से गोरखनाथ मंदिर तक सड़क मार्ग से जाते हुए मुख्यमंत्री ने शहरी क्षेत्र में भी जलभराव का जायजा लिया।

सिद्धार्थनगर और महराजगंज का हवाई सर्वेक्षण करते हुए मुख्यमंत्री सहजनवा पहुंचे। यहां राहत शिविर में बाढ़ पीड़ितों से मिलने और राहत सामग्री बांटने के बाद वह कसरवल में एनडीआरएफ की लाइफ बोट में सवार होकर उफनाती नदी के बीच होते हुए बाढ़ से मैरूंड हो चुके भुआ शहीद गांव में पहुंचे। योगी ने यहां भी प्रभावित लोगों के बीच राहत सामग्री का वितरण किया। इसके बाद बोट से ही उन्होंने मैलां गांव का रुख किया। गांव में पहुंचे योगी ने बाढ़ पीड़ितों की परेशानी जानी और आश्वस्त किया कि उनके रहते किसी को कोई दिक्कत नहीं होने पाएगी। सीएम ने इस दौरान कई बच्चों को दुलारा और अपनी गोद में खिलाया। 

Post a Comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad