Welcome to Dildarnagar!

Featured

Type Here to Get Search Results !

Varanasi में गंगा के जल स्‍तर में बढ़ाव से टूटा घाटों का आपसी संपर्क, तटवर्ती मंदिर जलाजल

0

जल स्तर में लगातार बढाव से गंगा किनारे के रहनवारों की धुकधुकी बढऩे लगी है। कुछ लोगों ने सुरक्षित स्थान जाने की तैयारी कर ली है। गंगा का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा है। बीते चार दिनों में चार मीटर से अधिक जल स्तर में बढ़ोतरी हुई है। इससे कई घाटों का आपसी संपर्क टूट गया। शीतला मंदिर समेत गंगा तटवर्ती देवालयों में पानी घुस गया। काशी विश्वनाथ मंदिर कारिडोर की जेटी भी डूब गई। जल स्तर में अभी बढ़ाव जारी है। रविवार को गंगा का जल स्तर फाफामऊ में 79.34 मीटर, प्रयागराज में 77.78 मीटर, मीरजापुर में 70.54 मीटर, वाराणसी में 64.36 मीटर, गाजीपुर में 57.23 मीटर व बलिया में 54.59 मीटर पहुंच गया। केंद्रीय जल आयोग के अनुसार आगामी दिनों में बढ़ोतरी जारी रहेगी।

कटान से हाईमास्क लाइट का अस्तित्व खतरे में

रामनगर के बलुआघाट पर लगाया गया हाई मास्क लाइट गिरने के कगार पर पहुंच गया है। बरसात से हुई कटान व गंगा के जलस्तर में वृद्धि से खतरा बढ़ गया है। समय रहते पोल नहीं हटाया गया तो कभी भी गंगा में समा सकता है। क्षेत्रीय लोगों ने विद्युत पोल हटाने की मांग की है। स्थिति यह है कि बरसाती पानी के साथ ही गंगा की लहरों से भी मिट्टी का कटान फिर शुरू हो गया।

काशी के पक्के घाटों की कटान रोकने के लिए योजना ट्रायल के दौर में

गंगा पार रेती में साढ़े 11 करोड़ रुपये से नहर बनाई गई है। यह कार्य गंगा के वेग का अध्ययन करने के लिए किया गया है ताकि काशी के पक्के घाटों की कटान रोकी जा सके। यह एक व्यापक व लंबी प्रक्रिया से गुजरने वाली योजना है। इसमें पांच साल तक अध्ययन चलेगा। इस दौरान जमा रेती की ड्रेजिंग होती रहेगी। इससे निकलने वाले बालू से जिला प्रशासन को राजस्व भी मिलेगा। काशी में गंगा अर्द्ध चंद्रकार स्वरूप में प्रवाहमान हैं। इससे सामने घाट से असि घाट तक तीव्र धारा टकराकर दशाश्वमेध की ओर घूमती है। आगे भी घाटों से टकराते हुए मणिकर्णिका घाट से घूमकर राजघाट की ओर निकलती है। बाढ़ के दिनों में गंगा की तीव्र धारा से पक्के घाटों के नीचे कटान होती रहती है। इससे घाट के नीचे पोल हो जाता है जिस कारण घाट के बैठने का खतरा बना रहता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad

Below Post Ad