Welcome to Dildarnagar!

Featured

Type Here to Get Search Results !

बलिया जेल का खुला फाटक, अगस्त क्रांति की दिखी झलक, शहीदों की शहादत को किया याद

0

बलिया को बागी बलिया यूं ही नहीं कहा गया। अगस्त क्रांति 1942 में आजादी की जंग में देश में बलिया पहला जिला था जो पांच साल पहले 19 अगस्त को कुछ दिनों के लिए आजाद हो गया था। क्रांतिकारियों की रिहाई के लिए जिला कारागार पर 50 हजार की भीड़ करो या मरो नारे के साथ उमड़ पड़ी थी। जनपद भर में कुल 84 लोगों ने शहादत देकर फिरंगियों को अपनी ताकत का एहसास कराया था। चित्तू पांडेय के नेतृत्व में लोगों ने कलेक्ट्रेट सहित सभी सरकारी कार्यालयों पर तिरंगा झंडा फहराया। टाउन हाल में सभा कर बलिया को आजाद राष्ट्र घोषित किया था। उस दिन की याद में हर साल बलिया वासी जिला कारागार से प्रतीकात्मक क्रांतिकारी बनकर बाहर आते हैं। इस दिवस पर जनपद में जगह-जगह लोगों ने शहीदों को नमन किया।

बलिया बलिदान दिवस पर शेरे बलिया चित्तू पांडेय स्मारक समिति के आयोजकत्व में जिला कारागार पर स्वतंत्रता सेनानी संगठन के सदस्य और अन्य लोग परंपरा के अनुसार जिला कारागार का फाटक खुलते ही भारत माता का जयकारा लगाते हुए बाहर निकले। जिलाधिकारी अदिति सिंह और पुलिस अधीक्षक राजकरन नैय्यर सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे। समिति के सदस्यों ने यहां के बाद राजकुमार बाघ, वीर बाबू कुंवर सिंह, राम दहिन ओझा, मुरली बाबू, डॉ. भीमराव आंबेडकर, चित्तू पांडेय, तारकेश्वर पांडेय, मंगल पांडेय, लाल बहादुर शास्त्री, चंद्रशेखर आजाद, उमाशंकर सोनार, महात्मा गांधी चौक पर स्थापित प्रतिमाओं पर माल्यार्पण किया। बापू भवन में सभा कर बलिया के क्रांतिकारियों को याद किया।

समिति के संस्थापक सदस्य लक्ष्मण गुप्ता ने कहा कि बलिया बलिदान दिवस का कार्यक्रम बलिया जनपद के सम्मान से जुड़ा है। गौरव के इस पल में स्थानीय जन प्रतिनिधियों की गैर मौजूदगी दुखद है। द्विजेंद्र मिश्रा ने कहा कि आज के दिन की ऐतिहासिकता को जन-जन तक पहुंचाना होगा। अध्यक्षता करते हुए स्वतत्रंता संग्राम सेनानी राम विचार पांडेय ने कहा कि युवा पीढ़ी को स्वयं आगे बढ़कर अपने राष्ट्रीय गौरव वाले बलिदान दिवस के कार्यक्रम से जुड़ना चाहिए। मुन्ना उपाध्याय ने पुराने दिनों का स्मरण करते हुए चित्तू पांडेय के जीवन पर प्रकाश डाला। संजय उपाध्याय, राजधारी सिंह, अनूप गुप्ता, महावीर चौधरी, सनत तिवारी, दिनेश चंद्र, उषा सिंह, रामनाथ सिंह व चिराग उपाध्याय ने सभा को संबोधित किया। आयोजक चित्तू पांडेय के प्रपौत्र विनय पांडेय ने धन्यवाद ज्ञापन किया। संचालन डॉ. शत्रुघन पांडेय ने किया। टाउन इंटर कालेज में स्थापित मुरली बाबू की प्रतिमा पर टाउन एजुकेशन सोसाइटी के सदस्यों ने माल्यार्पण किया।

अनूठे अंदाज में मनाया बलिया बलिदान दिवस

नगर में स्थित सनबीम स्कूल ने बलिया बलिदान दिवस को अनूठे अंदाज में मनाया। प्रधानमंत्री द्वारा चलाए गए अभियान ‘आजादी का अमृत महोत्सव एवं फिट इंडिया रन 2.0, फिटनेस का डोज-आधा घंटा रोज, दौड़ेगा इंडिया-जीतेगा इंडिया, के तहत विद्यार्थियों व अन्य प्रतिभागियों ने विद्यालय प्रांगण से बलिया रोडवेज बस स्टेशन तक दो किमी की दूरी पूरे जोश व उत्साह के साथ दौड़ कर पूरा किया। मुख्य अतिथि उपजिलाधिकारी जुनैद अहमद तथा विशिष्ट अतिथि जिला क्रीडा़धिकारी डॉ. अतुल सिन्हा, जिला बास्केटबॉल संघ के सचिव धनंजय सिंह उपस्थित रहे। निदेशक डॉ. कुंवर अरुण सिंह व प्रधानाचार्य सीमा उपस्थित रहीं।

Post a Comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad