Welcome to Dildarnagar!

Featured

Type Here to Get Search Results !

गुड गवर्नेंस के लिए याद किए जाएंगे कल्याण सिंह, सोनभद्र में बोले मनोज सिन्हा

0

सोनभद्र के आमडीह गांव में अपनी बड़ी बहन आभा राय के घर राखी बंधवाने पहुंचे जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह के निधन पर गहरा दु:ख व्यक्त किया। कहा कि उत्तर प्रदेश में जब भी गुड गवर्नेंस की बात होगी कल्याण सिंह को याद किया जाएगा। कल्याण सिंह का निधन भारतीय राजनीति के लिए अपूर्णनीय क्षति है। दुख की इस घड़ी में वे उनके परिवार के साथ हैं।

रविवार की सुबह पत्रकारों से मुखातिब उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा कि प्रदेश और देश की राजनीति में कल्याण सिंह के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। जम्मू कश्मीर व महबूबा मुफ्ती सहित अन्य सवालों के का जवाब देने से सीधे टाल गए। श्री सिन्हा शनिवार की रात 8.45 बजे आमडीह अपने बहन आभा राय पत्नी डा. अरुण राय के घर राखी बंधवाने के लिए पहुंचे थे। 

रविवार को रक्षाबंधन पर्व पर सुबह लगभग 9.30 बजे उन्होंने अपनी बहन आभा से राखी बंधवायी। इसके बाद मौके पर पहुंचे भाजपा नेताओं और परिचितों से मुलाकात की तथा उनका हाल चाल पूछा। इसके बाद यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के निधन के कारण अपने निर्धारित समय से लगभग तीन घंटे पहले ही आमडीह से लखनऊ में आयोजित शोकसभा में शामिल होने के लिए रवाना हो गए। 

उनके कार्यक्रम को देखते हुए पूरा आमडीह गांव पुलिस छावनी में तब्दील रहा। वाराणसी-शक्तिनगर मुख्य मार्ग से गांव में अंदर जाने वाले मार्ग पर आवागमन रोक दिया गया था। इस दौरान जिले व आसपास के प्रतिष्ठित लोग भी मौजूद रहे। गांव के हर आने जाने वाले ग्रामीणों की हो रही जांचजागरण संवाददाता, सोनभद्र : राबर्ट्सगंज ब्लाक के आमडीह गांव में अपनी बहन के घर राखी बंधवाने आ रहे जम्मू कश्मीर के उप राज्यपाल मनाेज सिन्हा की सुरक्षा व्यवस्था तगड़ी कर दी गई है। शनिवार की देर रात उनके बहन के घर पहुंचने का कार्यक्रम था। 

22 अगस्त की सुबह राखी बंधवाने के बाद दोपहर 1:45 बजे वाराणसी एयरपोर्ट के लिए वापस हो जाएंगे। इसको लेकर दो सीओ, एडिशनल एसपी, सदर एसडीएम दोपहर बाद से ही सुरक्षा व्यवस्था संभाले हुए हैं। गांवों में उनके आने को लेकर हलचल देखी जा रही है। उप राज्यपाल पिछले कई वर्षों से आमडीह गांव में अपनी बहन आभा के घर रक्षा बंधन पर्व पर रखी बंधवाने के लिए आते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad

Below Post Ad