Welcome to Dildarnagar!

Featured

Type Here to Get Search Results !

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहुंचे काशी, बांटी बाढ़ राहत सामग्री, परखी तैयारी

0

मुख्यमंत्री दोपहर करीब तीन बजे हेलिकाप्‍टर से वाराणसी आ गए। उन्होंने हेलीकाप्टर से ही बाढ की स्थिति देखी। जिले में बाढ़ के हालात का जायजा लेने के बाद संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में उनका हेलिकाप्टर उतरा। पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस में गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहुंचे। सीएम ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया। एनडीआरएफ के साथ बोट में बैठ कर खुद बाढ़ की स्थिति देखी। वाराणसी में इस समय गंगा का पानी चारों तरफ बह रहा है। गंगा नदी के जलस्तर में वृद्धि होने से किनारों पर रहने वालों के घरों में पानी घुस चुका है जिसके चलते उन्हें पलायन करना पड़ा है।

सीएम योगी आदित्यनाथ शाम को राजघाट पुल पर पहुंचे। यहां से एनडीआरएफ के साथ बोट में सवार हो कर सीएम ने गंगा में बाढ़ की स्थिति का जायजा लिया। सीएम के दौरे के कारण पड़ाव से राजघाट पुल व राजघाट से पड़ाव की तरफ आने वाले लोगों को पुल के दोनों छोर पर रोक दिया गया।भीषण जाम में लोग बिलबिला उठे।सीएम के जाने के बाद पुलिस ने जब सबसे पहले पैदल यात्रियों को जाने की अनुमति दी तो लोग खुशी से उछल पड़े। युवा दौड़ने लगे।वाराणसी पहुंचे सीएम ने बाढ़ राहत सामग्री का वितरण करने के अलावा राहत शिविरों का दौरा कर बाढ़ प्रभावित लोगों से मुलाकात की।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने एक दिवसीय वाराणसी दौरे के दौरान गुरुवार को वाराणसी पहुंचे और बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों का तूफानी दौरा कर बाढ़ पीड़ितों को उपलब्ध कराये जा रहे राहत कार्यों का जायजा लिया। मुख्यमंत्री ने राजघाट से एनडीआरएफ के मोटर बोट से पुराना पुल तक दौरा कर गंगा एवं वरुणा के बढ़े जल स्तर को देखा। इसके बाद उन्होंने सरैया स्थित आलिया गार्डन में बनाए गए राहत केंद्र में रह रहे बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात कर उनका कुशलक्षेम जाना तथा भरोसा दिया कि चिंता की कोई बात नही, आपदा की इस घड़ी में सरकार उनके साथ खड़ी है। हर संभव उनकी मदद की जाएगी। उन्होंने मौके पर अधिकारियों से राहत कार्यों के बारे में जानकारी करते हुए निर्देशित किया कि बाढ़ पीड़ितों की मदद में कोई कोर कसर न छोड़ी जाए। तत्पश्चात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जेपी मेहता इंटर कॉलेज राहत केंद्र पर पहुंचे और यहां पर रह रहे 60 से अधिक बाढ़ प्रभावित परिवारों के लोगों से मुलाकात कर उनकी कुशलक्षेम पूछी और उन्हें मिल रहे राहत सुविधाओं की भी जानकारी ली।

इस दौरान उन्होंने लगभग 37 लोगों को राहत सामग्री की भारी पैकेट एवं आलू, प्याज से भरा छोला भी भेंट की। राहत राशन सामग्री उपलब्ध कराते हुए कई लोगों द्वारा पैकेट न उठा पाने पर मुख्यमंत्री ने कहां की बहुत वजनी बैग है, माता कैसे जाएगा। तो साथ में खड़ा लड़के ने बताया कि वह साथ में है और आसानी से ले जाएगा। उन्होंने जेपी मेहता इंटर कॉलेज परिसर में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के मवेशियों के लिए बनाए गए आश्रय स्थल का भी निरीक्षण किया। इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 20 मिनी पोर्टेबल एवं तीन बड़े फागिंग मशीन कर्मियों के ग्रुप को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ पर्यटन मंत्री डॉक्टर नीलकंठ तिवारी, स्टांप मंत्री रविंद्र जायसवाल, कमिश्नर दीपक अग्रवाल, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा सहित पुलिस के अधिकारी व अन्य अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में सीएम की आगवानी करने वालों में प्रमुख रूप से राज्यमंत्री रविंद्र जयसवाल, मेयर मृदुला जायसवाल, जिला पंचायत अध्यक्ष पूनम मौर्या, विधायक सुरेंदर सिंह ओढ़े, भाजपा जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा, बाढ़ प्रभावित इलाकों से वॉर्ड नंबर 18 नदेसर के पार्षद सुशील कुमार गुप्ता, ढेलवारिया के पार्षद गोपाल जायसवाल, कमिश्नर दीपक अग्रवाल, जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा, पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश इत्यादि मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दोपहर बाद बनारस पहुंचे। उनका हेलीकाप्टर 3.15 बजे संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय स्थित हेलीपैड पर उतरा। सीएम यहां से सड़क मार्ग से राजघाट और पक्का पुल भी जाएंगे। इन दोनों स्थानों से गंगा और वरुणा तटवर्ती क्षेत्रों में बाढ़ के हालात को करीब से पहुंचा। सरैया स्थित राहत केंद्र में मुख्यमंत्री बाढ़ प्रभावितों से मिलेंगे। राहत सामग्री का वितरण भी करेंगे। शाम 5.35 बजे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सर्किट हाउस में होंगे।

यहां अधिकारियों के साथ बाढ़ के हालात, बचाव, राहत, प्लान समेत अन्य विषयों को लेकर समीक्षा बैठक करेंगे। जिलाधिकारी की ओर से बाढ़ राहत से संबंधित प्रजेंटेशन किया जाएगा। सीएम के बाढ़ राहत सामग्री वितरण के दौरान जनप्रतिनिधि भी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री सायंकाल श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन - पूजन और काशी विश्वनाथ धाम कारिडोर का निरीक्षण के लिए भी जा सकते हैं। सर्किट हाउस में रात्रि विश्राम के बाद सीएम शुक्रवार सुबह हेलीकाप्टर से गाजीपुर के लिए प्रस्थान करेंगे।

Post a Comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad