Featured

Type Here to Get Search Results !

गाजीपुर: आक्सीजन की उपलब्धता पर्याप्त मरीजों तक 15 मिनट में ही पहुंचेगी मदद

0

जिलाधिकारी द्वारा रविवार को किए गए जिला अस्पताल के निरीक्षण के तमाम खामियां मिलने पर उन्होंने पर पूरे सिस्टम को ही बदल दिया है। अब अगर जिले में आक्सीजन की उपलब्धता होगी तो मरीजों को 15 मिनट के अंदर मदद पहुंच जाएगी, वह अभी लिखा-पढ़ी के साथ। रविवार को डीएम ने देखा कि अस्पताल के स्टोर में आक्सीजन और दवा दोनों उपलब्ध थी, लेकिन मरीजों तक नहीं पहुंच पा रही थी। इस पर उन्होंने सीएमएस को तत्काल हटाने के साथ ही कोविड, आकस्मिक व सामान्य वार्ड के लिए चिकित्सकों का रोस्टर बदल दिया है। जिलाधिकारी ने एक नया प्रारूप भी बनाया है। इससे लोगों को झटपट मदद पहुंचेगी।

कोरोना वार्ड प्रभारी वहां तैनात चिकित्सक होंगे। इनके साथ एक वार्ड ब्वाय और एक स्टाफ नर्स होंगी। अगर मरीज को आक्सीजन की आवश्यकता होगी तो वार्ड प्रभारी डीएम द्वारा दिए गए प्रारूप को भरकर सीएमएस को देंगे, इसमें तिथि व समय भी अंकित रहेगा। इसके बाद सीएमएस के पास आक्सीजन है तो 15 मिनट में उपलब्ध कराएंगे। अगर यहां नहीं होगा तो वह सीएमओ से मांगेगे। यहां से भी 15 मिनट में आक्सीजन पहुंचेगा। अगर यहां भी आक्सीजन नहीं होगा तो वह जिलाधिकारी को अवगत कराएंगे और डीएम शासन से मांग करेंगे। हालांकि फिलहाल स्थिति सही है और आक्सीजन व दवा पर्याप्त है। इस व्यवस्था के बाद भी मरीजों तक समय से मदद नहीं पहुंची तो तत्काल कड़ी कार्रवाई भी की जाएगी। जिलाधिकारी ने सभी के लिए अलग-अलग से रोस्टर तैयार करने का निर्देश दिया है। आक्समिक, कोरोना व सामान्य वार्ड में वह चिकित्सक तैनात रहेंगे। कोरोना वार्ड में लगे बेड के तकिया-बिस्तर व साफ-सफाई की जिम्मेदारी वार्ड व्वाय को दी गई है।

निजी चिकित्सालयों को डीएम उपलब्ध कराएंगे आक्सीजन

जिला प्रशासन द्वारा जिन निजी चिकित्सालयों का अधिग्रहण किया गया है, अगर वहां आक्सीजन की आवश्यकता है तो वह जिलाधिकारी से मैसेज के द्वारा आवश्यकता के अनुरूप डिमांड करेंगे। इसके बाद तत्काल वहां आक्सीजन का सिलेंडर पहुंचेगा। इसमें जो समय ट्रवेलिग में लगे।

घर पर आक्सीजन लगाने से करें परहेज

जिले में बहुत से ऐसे कोरोना के मरीज हैं, जो सरकारी अस्पताल आना नहीं चाहते हैं। ऐसे लोगों से जिलाधिकारी ने अनुरोध किया है कि अगर वह जिला अस्पताल नहीं आना चाहते तो जिन निजी चिकित्सालयों को अधिग्रहित किया गया है, वहां भर्ती हो जाएं। होम आइसोलेशन वालों को हम आक्सीजन सिलेंडर दे सकते हैं, लेकिन वह उसे लगाएंगे कैसे। कितनी मात्रा में लगानी यह चिकित्सक ही निश्चय कर सकते हैं। इस लिए आप सूचना दें, आपको एम्बुलेंस से चिकित्सालय तक पहुंचाया जाएगा।

कोरोना महामारी ने काफी भयावह रूप ले लिया है। ऐसे में हम सभी को संयम से काम लेने की जरूरत है। जिले के निजी चिकित्सालयों को भी अधिग्रहित किया गया है। आक्सीजन व दवा की कमी ना हो इसके लिए हम सभी प्रयासरत हैं और कड़ी मेहनत कर रहे हैं। हम सभी को साथ मिलकर इससे लड़ना है। हम निश्चित ही कोरोना पर विजय प्राप्त कर लेंगे।

Post a comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad