Type Here to Get Search Results !

दिलदारनगर-ताड़ीघाट रूट पर दौड़ी इलेक्ट्रिक ट्रेन, यात्रियों में उत्साह

0

गाजीपुर जिले के बिहार बार्डर के सैकड़ों गांव की लाइफलाइन कही जाने वाली ट्रेन दस माह के बाद फिर पटरी पर दौड़ी। गाजीपुर दिलदारनगर रूट पर दोहरीकरण, इलेक्ट्रिफिकेशन और तमाम रीमॉडलिंग के बाद ट्रेन ने सोमवार को रफ्तार भरी। पहले दिन ही दिलदारनगर-ताड़ीघाट रेल रूट पर पहली बार डबल इलेक्ट्रिक इंजन सहित ट्रेन का परिचालन शुरू हुआ। दिलदारनगर-ताड़ीघाट पैसेंजर ट्रेन के संचालन से यात्रियों में काफी खुशी का माहौल रहा।

गाजीपुर में दिलदारनगर-ताड़ीघाट डीटी इलेक्ट्रिक ट्रेन को पहली बार चलाया गया। रूट पर ट्रेन के आगाज को लेकर ग्रामीणों की भारी भीड़ स्टेशन पर लगी रही। वहीं दिलदारनगर से ओरिनेट होने के बाद बीच में पड़ने वाले हर स्टेशनों से रुकते हुए जब ताड़ीघाट स्टेशन पहुंची, तो वहां पहले से पहुंचे ग्रामीणों ने जोरदार ढंग से इसका स्वागत किया। उम्मीद जतायी जा रही है कि गंगा पर बन रहे रेल कम रोड ब्रिज के बन जाने पर ट्रेन सीधे गंगा उसपार गाजीपुर घाट तक जाने लगेगी। इससे यात्रियों को भी काफी सहूलियत होने लगेगी। दिलदारनगर-ताड़ीघाट के विद्युतीकरण होने के बाद पहली बार एक फरवरी सोमवार को डबल इलेक्ट्रिक इंजन के साथ डीटी पैसेंजर ट्रेन दिलदारनगर से ताड़ीघाट स्टेशन के बीच चली। इससे क्षेत्र के लोगों में काफी हर्ष का माहौल बना हुआ है। यह ट्रेन दिलदारनगर स्टेशन से अपने निर्धारित समय सुबह 8:15 बजे से खुली, जिसे दिलदारनगर स्टेशन अधीक्षक नफीस अहमद खान टीआई ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। वहीं उसपर सवार होकर यातायात निरीक्षक संजय प्रसाद ताड़ीघाट स्टेशन पहुंचे। 


जहां से ताड़ीघाट स्टेशन अधीक्षक सुजीत कुमार ने हरी झंडी दिखाकर लौटते समय ट्रेन को रवाना किया। ट्रेन के पहले फेरे में दिलदारनगर से कुल 70 टिकट की बिक्री हुई। कोविड-19 के चलते करीब दस माह से दिलदारनगर-ताड़ीघाट पैसेंजर ट्रेन का परिचालन बंद था। इसी बीच इस रूट को इलेक्ट्रिक ट्रेन चलाने के लिए कार्य होता रहा। कार्य पूरा होने के बाद बीच-बीच में इलेक्ट्रिक इंजन चलाकर इसका ट्रायल भी किया जाता रहा। इलेक्ट्रिक इंजन चलाने का ट्रायल पूर्ण होने के उपरांत पहली बार सोमवार को डबल इलेक्ट्रिक इंजन व बोगी के साथ इसे चलाया गया। यह ट्रेन डीडीयू से सुबह 6:15 बजे चलकर, कुछमन, सकलडीहा, धीना, जमानिया, दरौली होते हुए 7:45 बजे दिलदारनगर पहुंची। फिर दिलदारनगर से 8:15 बजे इसे रवाना किया गया। जो इस रूट पर पड़ने वाले सरहुला, नगसर होते हुए ताड़ीघाट पहुंची। इसकी जानकारी होने पर निवर्तमान प्रधान दीपक सिंह के साथ ही बड़ी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ पहले ही स्वागत करने के लिए पहुंची थी। 


ट्रेन के पहुंचते नारा लगाया गया। फिर ट्रेन से आये यातायात निरीक्षक संजय प्रसाद, ताड़ीघाट स्टेशन अधीक्षक सुजीत कुमार सहित अन्य रेलकर्मी को फूलमाला पहनाकर स्वागत किया गया। इसके बाद फिर सुबह 9:45 बजे ताड़ीघाट होते हुए यह ट्रेन दिलदारनगर जंक्शन को लौटी। दिलदारनगर से फिर दोपहर में 11:30 बजे यह ट्रेन खुली और ताड़ीघाट पहुंची। पहले की तरह शाम 4:45 बजे तक दिलदारनगर-ताड़ीघाट रूट पर अप-डाउन में तीन फेरा तक इस ट्रेन को चलाया गया। इसके बाद यह ट्रेन दिलदारनगर से 7:35 बजे खुलकर डीडीयू के लिए रवाना हो गयी। भविष्य में ताड़ीघाट स्टेशन से गंगा पुल पर बन रहे रेल कम रोड ब्रिज से जोड़कर दिलदारनगर से गाजीपुरघाट स्टेशन से इस रूट को जोड़ दिया जायेगा। इससे पूर्व मध्य रेलवे से पूर्वोत्तर रेलवे का रूट सीधे जुड़ जायेगा और यात्रियों को भी इससे काफी लाभ पहुंचेगा।

Post a comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad