Featured

Type Here to Get Search Results !

बिहार में प्रवासियों के रोजगार के लिए सभी 38 जिलों में खुलेंगे 189 नए छोटे उद्योग

0


बिहार के हर जिले में छोटे उद्योग खोले जाने का सिलसिला शुरू हो गया है। इन्हें जिला औद्योगिक नव प्रवर्तन योजना के तहत खोला जा रहा है। इसके लिए सरकार ने सभी जिलों को 50-50 लाख रुपए दिए थे।

 सभी 38 जिलों में अभी तक 189 छोटे उद्योग चिन्हित हो चुके हैं। बेगूसराय और कैमूर में तो चार जगह काम शुरू होने का दावा भी उद्योग विभाग ने किया है। इन सभी छोटे उद्योगों में प्रवासी श्रमिकों का समूह बनाकर उन्हें रोजगार दिया जा रहा है। हरेक समूह पर 10 लाख रुपए खर्च किए जाने हैं। कोरोना काल में बिहार लौटने वाले लाखों प्रवासी श्रमिकों के लिए राज्य सरकार ने कई नई योजनाएं शुरू की थीं। नए निवेश को आकर्षित करने के लिए औद्योगिक निवेश प्रोत्साहन नीति में भी कई प्रमुख बदलाव किए गए हैं। 

सरकार ने इसी कड़ी में जिला औद्योगिक नव प्रवर्तन योजना शुरू की थी। इसके तहत हर जिला पदाधिकारी को सूक्ष्म इकाइयां स्थापित कराने को 50 लाख की नव प्रवर्तन निधि दी गई है। इस धनराशि से हर जिले में स्थानीय विशेषताओं और श्रमिकों की जरूरत और कुशलता को ध्यान में रखते हुए 189 सूक्ष्म यानि छोटे उद्योग खोले गए हैं।

हर जिले में पांच उद्योग लगेंगे
जिला स्तर पर प्रवासी श्रमिकों या कुशल कारीगरों के समूह बनाए गए हैं। जो एक ही सेक्टर से जुड़े हों। कई जगह इस प्रक्रिया को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इन समूहों का पंजीकरण कराया जा रहा है। हर समूह में कम से कम 10 लोग होंगे। हर समूह पर 10 लाख खर्च किए जाने हैं तो इस लिहाज से हर जिले में पांच समूह बनाए गए हैं। यानि पांच-पांच उद्योग हर जिले में स्थापित हो रहे हैं। वहीं प. चंपारण में ऐसे उद्योगों की संख्या छह है।

Post a Comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad