Featured

Type Here to Get Search Results !

Prayagraj News: पांच साल की बेटी के लिए पीपीई किट पहन डॉक्टर की भूमिका में मां

0

कहते हैं, मां अपने बच्चों के लिए अपनी जान भी दांव पर लगा सकती है, आखिर मां तो मां ही होती है। ऐसी ही एक मां स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल के वार्ड नंबर नौ में इन दिनों मौजूद है। कोरोना के संक्रमण से जूझ रही पांच साल की बेटी के लिए वह खुद की जान की परवाह किए बगैर डॉक्टर की भूमिका में आ उसकी साथ मौजूद रहती हैं। इतना ही नहीं डॉक्टरों की तरह ही पीपीई किट से लैस होकर वह बेटी की देखभाल कर रही है और उसका हौसला बढ़ा रही है। डॉक्टर भी इस मां की ममता के सामने नतमस्तक हो गए। क्योंकि कोरोना वायरस की इस महामारी के बीच यह काम मां के अलावा कोई कर भी नहीं सकता।

जिला प्रशासन और स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने सुनी मां की फरियाद
दरअसल, सैदाबाद के गणेशपुर गांव की रहने वाली यह बच्ची मां समेत परिवार के अन्य सदस्यों के साथ 16 मई को अपने घर लौटी थी। जांच रिपोर्ट में बच्ची कोरोना संक्रमित पाई गई, यह सुनकर मां की आंखों के सामने जैसे अंधेरा छा गया। सोमवार को कालिंदीपुरम क्वारंटाइन सेंटर से बच्ची को लेवल थ्री कोविड अस्पताल एसआरएन में भर्ती करने के लिए ले जाया जा रहा था। मां डॉक्टरों के सामने गिड़गिड़ाने लगी, मेरी बच्ची को मुझसे दूर न करो.. मुझे भी अस्पताल ले चलो मैं उसकी देखभाल करूंगी। फिर क्या जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने भी उसे बेटी की देखभाल के लिए अस्पताल में रहने की अनुमति दे दी है। मां को कोरोना से बचाव के लिए सभी नियमों के बारे में बताया गया और उसे पीपीई किट पहनकर अंदर रहने के लिए कहा गया। डॉ. अमित बग्गा उसके इलाज में लगे हुए हैं। वह खुद मां की इस ममता को देखकर भावुक हो जाते हैं।

Post a comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad