Type Here to Get Search Results !

वाराणसी: फसलों को बचाने के लिए वाराणसी में बनी समिति, ग्राम प्रधानों के साथ बैठक

0

डीएम के निर्देश पर शुक्रवार को काशी विद्यापीठ ब्लाक मुख्यालय सभागार में टिड्डियों के संभावित आगमन को लेकर ब्लाक के अफसरों ने ग्राम प्रधानों संग बैठक की। साथ ही इस बाबत ब्लाकस्तरीय समिति का भी गठन किया गया। टिड्डियों के आतंक से फसलों को होने वाले नुकसान पर चर्चा की गई। कहा गया कि टिड्डियों के दल को सोनभद्र, मीरजापुर और चंदौली में देखा गया है। इससे लगा ब्लाक काशी विद्यापीठ है जिसमें टिड्डी दल का आगमन पहले होने की संभावना है। टिड्डी दल बहुत भारी संख्या में आते हैं और यह कुछ ही समय में काफी बड़ी मात्रा में फसलों को नष्ट कर देते हैं।

सहायक विकास अधिकारी कृषि विजय शंकर तिवारी द्वारा किसानों को खेतों में ढोल-नगाड़े बजाने, ताली बजाने हवाई पटाखे चलाने समेत यांत्रिकी विधि से नियंत्रण करने की बात कही। उन्होंने ने कहा कि ऐसे उपाय अपनाने से टिड्डी दल आपके खेत में न बैठ आगे बढ़ जाएगा। सहायक विकास अधिकारी (कृषि रक्षा) रमेश सिंह द्वारा बचाव के लिए रासायनिक दवाओं के छिड़काव की विधि, मात्रा आदि के बाबत विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई। उधर, गठित ब्लॉकस्तरीय समिति में खंड विकास अधिकारी को अध्यक्ष, सहायक विकास अधिकारी कृषि को सचिव तथा सहायक विकास अधिकारी पंचायत को सदस्य बनाया गया। इस दौरान प्रभारी बीडीओ आरके द्विवेदी, एडीओ पंचायत एसके सिंह, प्राविधिक सहायक अश्विनी सिंह, संजय कुमार ने भी विचार व्यक्त किया। रमसीपुर, भूलनपुर महेशपुर, हरिहरपुर, जफराबाद टिकरी, रमना, तारापुर समेत कई गांवों के प्रधान व प्रतिनिधि मौजूद थे।

दो दिनों तक बनारस व आसपास के जिलों में टिड्डियों के प्रवेश की संभावना नहीं
टिड्डों का दल इस समय मध्य प्रदेश में देखा गया है। हवा का रूख बनारस की ओर नहीं होने के चलते दो दिनों तक बनारस व आसपास के जिलों में टिड्डियों के प्रवेश की संभावना नहीं है। वैसे एहतियातन इसकी बराबर मानिटरिंग की जा रही है। मंडल के जिलास्तरीय कृषि अधिकारियों को सतर्क रहने को कहा गया है। अगर बरसात हो गई तो इधर आने की संभावना काफी कम हो जाएगी।

Read More

Post a comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad