Type Here to Get Search Results !

चंदौली: ओवरलोडिग नहीं रुकी तो टूट जाएंगे कई एनएच पुल

0

ओवरलोड वाहनों का संचालन नहीं रुका तो हाईवे के कई पुल क्षतिग्रस्त हो जाएंगे। राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों ने इसको लेकर आगाह किया है। बिहार व वाराणसी प्रशासन से बात कर ओवरलोड वाहनों का आवागमन रोकने की सलाह दी है। नौबतपुर में कर्मनाशा नदी का एनएच पुल टूटने के बाद वाहनों के आवागमन को बने रूट डायवर्जन की नींव दरकने से एनएच के अफसर हरकत में आ गए हैं। मानक के अनुसार डायवर्जन मार्ग पर वाहन 20-25 टन भार लादकर ही सफर कर सकते हैं, लेकिन 70 से 80 टन लादकर ओवरलोड ट्रकों का भार पुल की सेहत के लिए भारी पड़ रहा है।

एनएच प्रशासन ने ओवरलोड वाहनों को रोकने के लिए बिहार सरकार के साथ ही गुरुवार को वाराणसी प्रशासन से वार्ता की। एनएचएआइ के टेक्निकल मैनेजर नागेश सिंह ने वाराणसी में गंगा नदी पर बने विश्वसुंदरी पुल, गाजीपुर के जमानियां पुल की ऊपरी सतह दरकने का कारण भी ओवरलोड बताया। हाईवे प्रशासन का कहना है एनएच पुलों की क्षमता 50 से 55 टन तक है, लेकिन 120 से 140 टन भार लादकर ट्रक और ट्रेलर पुलों से गुजर रहे हैं। सबसे बड़ी समस्या बालू लदे ओवरलोड ट्रकों से है। बिहार की सोन नदी की शेरघाटी व डेहरी-ऑन-सोन से बालू लादकर ट्रक यूपी की सीमा में प्रवेश करते हैं, जबकि नियमत: बिहार की बालू अन्य प्रांतों में नहीं बेची जा सकती है। इसके बावजूद यूपी की सीमा में ट्रकों का प्रवेश करना हैरानी की बात है। इसके लिए सीमावर्ती प्रशासन की जिम्मेदारी तय की जाए।

Post a comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad