जेब खाली और चूल्हे ठंडे तो आई घर की याद, एक दिन खाना खाते दूसरे दिन रखते थे उपवास - Dildarnagar News and Ghazipur News✔ Buxar News | UP News ✔

Breaking News

Wednesday, 6 May 2020

जेब खाली और चूल्हे ठंडे तो आई घर की याद, एक दिन खाना खाते दूसरे दिन रखते थे उपवास


कानपुर: कहावत है कि घर की देहरी लांघते ही परदेस होता है, रोजागार के लिए घर से दूसरे प्रांतों में गए परिवार लॉकडाउन में किसी तरह गुजर बसर करते रहे। आखिर जब जेब का धन खत्म हो गया और चूल्हे ठंडे पड़ गए तो उन्हें घर की याद सताने लगी। मंगलवार को गोधरा गुजरात से 12 सौ प्रवासी कामगार परिवार स्पेशल ट्रेन से उतरे तो उन्होंने अपनी व्यथा बयां की। उन्होंने पीड़ादायी आवाज में बताया कि किस तरह दिन और रात गुजारे हैं।

यात्रियों ने सुनाई अपनी व्यथा
एक दिन खाना मिलता तो अलगे दिन उपवास रखते थे, ट्रेन चलने की जानकारी हुई तो ठेकेदार से रुपये लेकर घर वापसी की है। -प्रदीप कुमार, बलिया सिकंदरपुर

-बिस्कुट, नमकीन की फेरी लगाकर पेट पाल रहे थे। रुपये खत्म होने के बाद जो बचा बिस्कुट और नमकीन था उसी से पेट भरा। -नरसिंह, हरदोई

-सारे पैसे खत्म हो गए थे लेकिन जब घर के लिए ट्रेन का पता चला तो किसी तरह रुपयों का इंतजाम किया। पांच सौ रुपये देकर टिकट लिया, तीन साल के बच्चे का टिकट भी लिया गया। बस सुकून इस बात का है कि अब घर पहुंच जाएंगे। -रूबी देवी, अमखेड़ा जालौन

-जमा पूंजी खत्म हो चुकी थी, खाने तक के लाले पड़ गए थे। घर वापसी के अलावा दूसरा कोई चारा नहीं था। दो दोस्तों से टिकट के रुपये उधार लेकर आया हूं। -सूरज कुमार, धर्मदास खेड़ा उन्नाव

No comments:

Post a comment