दो कोरोना पॉजिटिव मिले, बड़ोदरा मदरसा से आया छात्र और अहमदाबाद से पहुंचा था प्रवासी - Dildarnagar News and Ghazipur News✔ Buxar News | UP News ✔

Breaking

google.com, pub-3803675606503407, DIRECT, f08c47fec0942fa0

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Tuesday, 12 May 2020

दो कोरोना पॉजिटिव मिले, बड़ोदरा मदरसा से आया छात्र और अहमदाबाद से पहुंचा था प्रवासी



जिला सदर अस्पताल में सोमवार को दो कोरोना मरीज मिले हैं। दोनों को सुखपुर स्थित एएनएम ट्रेनिंग सेंटर में बने कोविड केयर सेंटर में शिफ्ट कर दिया गया है। जिला प्रशासन दोनों मरीजों के काॅनटेक्ट ट्रेसिंग और ट्रेवल हिस्ट्री का पता लगाने में जुट गई है। काेराेना पॉजिटिव मरीज में एक त्रिवेणीगंज और दूसरा राघोपुर का रहने वाला है। राघोपुर निवासी प्रवासी मजदूर आठ मई को अहमदाबाद से सुपौल आया था। त्रिवेणीगंज का छात्र बड़ोदरा के मदरसा से सात मई को कटिहार होते हुए सुपौल आया था।
पॉजिटिव मरीज में से एक की उम्र 18 व दूसरे की आयु 26 वर्ष बताई जा रही है। डीपीआरओ अनुराग कुमार ने बताया कि दोनों वर्तमान में सदर अस्पताल सुपौल में आईसोलेशन वार्ड में रखा गया था। लेकिन कोरोना पॉजिटिव रिपाेर्ट आने के बाद अब जिला प्रशासन की ओर से दोनों को सुखपुर स्थित एएनएम ट्रेनिंग सेंटर में बने कोविड केयर सेंटर में शिफ्ट कर दिया गया है। दोनों के घर लौटने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने उनके स्वाब का सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा था। इसकी रिपोर्ट सोमवार की शाम को आई। डीपीआरओ श्री कुमार ने कहा कि फिलहाल शहर को कंटनमेंट जाेन से बाहर रखा गया है। इसलि शहर में सदर अस्पताल के तीन किमी के परिधि को सील नहीं किया जाएगा। सुपौल निवासी एक मरीज सहरसा में पहले से भर्ती है।
तीन दिन पूर्व भी मिल चुका है एक मरीज
हालांकि कोराेना का पहला मरीज बीते आठ मई को ही मिल गया था। जो बसंतपुर प्रखंड अंतर्गत कुशहर पंचायत निवासी है। वह बीते छह मई को विशेष ट्रेन से सहरसा पहुंचा था। जहां स्क्रीनिंग में संदेह के आधार पर उसे सहरसा में रोक कर क्वारेंटाइन कर दिया गया था। वहीं उसका सैंपल भी छह मई को जांच में भेजा गया था। जिसकी रिपोर्ट आठ मई आने के बाद उसके कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई थी।

जयपुर से दो बसों में 56 प्रवासी पहुंचे वीरपुर
वीरपुर | सूबे में तीसरे चरण का लॉकडाउन चल रहा है। राज्य सरकार और केंद्र सरकार की पहल पर प्रवासी मजदूरों का आना निरंतर जारी है। इसी क्रम में सोमवार को राजस्थान के जयपुर से दो बसों के माध्यम से महिला समेत 56 मजदूर वीरपुर पहुंचे। जहां प्रखंड प्रशासन की ओर से विश्वकर्मा कॉलेज में बनाए गए रिसीविंग सेंटर पर सभी प्रवासी को तत्काल रखा गया। जहां पहुंची मेडिकल टीम ने सभी का नाम, पता, मोबाइल नंबर दर्ज करते हुए सभी का स्क्रीनिंग किया। इसके बाद में सभी को संबंधित पंचायत में बने क्वारेंटाइन सेंटर पर भेज दिया गया। जानकारी अनुसार बसंतपुर प्रखंड में 10 मार्च के बाद अब तक 2790 प्रवासी मजदूर आए हैं। इस संबंध में बसंतपुर सीओ विद्यानंद झा ने बताया कि प्रवासी मजदूरों के रहने के लिए 35 क्वारेंटाइन सेंटर बनाए गए हैं। जिसमें 3500 लोगों के ठहरने की व्यवस्था की गई है। प्रखंड में अब तक 2790 प्रवासी मजदूर आए हैं। जिनमें से लगभग 100 विदेशों से हैं। वही 2650 अन्य प्रांतों से आए हैं। करीब 100 छात्र भी बाहरी राज्यों से आए हैं। जिन्हें होम क्वारेंटाइन किया गया है। पूरे प्रखंड क्षेत्र में मध्य विद्यालय बसंतपुर और कस्तूरबा विद्यालय बलभद्रपुर में महिला प्रवासी के रहने की व्यवस्था की गई है। मध्य विद्यालय बसंतपुर में वर्तमान में महिला प्रवासी को रखा गया है। जिन्हें विभिन्न पंचायतों के क्वारेंटाइन में रखा गया है। अब तक मुम्बई और कोटा से कुछ छात्र भी आए हैं। जिनमें से 36 छात्र नेपाल के हैं।
587 संदिग्धों में 502 निगेटिव, 85 की रिपोर्ट अप्राप्त
सुपौल|कोरोना संक्रमितों की पहचान के लिए डीएम महेंद्र कुमार के निर्देश पर जिले में ट्रेसिंग, ट्रैकिंग व टेस्टिंग का कार्य जारी है। जिला प्रशासन से प्राप्त जानकारी अनुसार सोमवार तक जिले में 587 संदिग्धों की सैंपलिंग की गई। इसमें 502 संदिग्धों की रिपोर्ट निगेटिव आया है। जबकि शनिवार और रविवार को डीएमसीएच दरभंगा भेजे गए 85 संदिग्धों की जांच रिपोर्ट अभी तक अप्राप्त है। राहत की बात है कि जिले में अब तक एक भी काेरोना संक्रमित मरीज नहीं पाया गया है। फिलहाल राज्य के बाहर से आए हुए कुल 5225 लोगों को जिले के विभिन्न प्रखंडों में संचालित क्वारेंटाइन सेंटर में प्रशासन की देख-रेख में रखा गया है। जहां लोगों के लिए प्रशासन ने सारी सुविधा मुहैया कराई जा रही है।

No comments:

Post a comment