सब्जी मंडी, मछली बाजार, नाव परिचालन बैंक में भीड़, कोरोना फैलने की आशंका - Dildarnagar News | Ghazipur News✔ ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | लेटेस्ट न्यूज़ इन हिंदी ✔

Breaking News

Friday, 1 May 2020

सब्जी मंडी, मछली बाजार, नाव परिचालन बैंक में भीड़, कोरोना फैलने की आशंका




शहर व ग्रामीण क्षेत्र में सब्जी मंडी, मछली बाजार, नदी क्षेत्रों में नाव परिचालन के अलावा बैंक आदि सार्वजनिक प्रतिष्ठानों में भीड़ से कोरोना संक्रमण की आशंका बढ़ सकती है। इन जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग का न तो पालन हो रहा और न ही लोग मास्क लगा रहे हैं। सब्जी मंडी व बैंक में अधिकांश लोग मास्क नहीं पहनते है। हालांकि, सार्वजनिक जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए पुलिस जवान माइकिंग कर लोगों को जागरूक करते रहते हैं।
शहर के पटेल मैदान स्थित अंबेडकर चौक से विश्वसरैया प्रतिमा स्थल के बीच प्रशासनिक व्यवस्था के अंदर सुबह से शाम 6 तक सब्जी मंडी लगती है। चांदनी चौक रोड से दक्षिण सरबा ढाला के बीच दो जगहों पर भी सब्जी मंडी अल सुबह से लगती है और सुबह 7 तक उठती है, लेकिन मंडी में ग्राहक और दुकानदार मास्क नहीं पहनते हैं। इसी तरह बैंक, डाकघर व दवा दुकानों के आगे भी भीड़ रहती है।

नाव पर सवार लोग सोशल डिस्टेंसिंग का नहीं करते हैं पालन
सिमरी बख्तियारपुर | सिमरी बख्तियारपुर व सलखुआ प्रखंड के पूर्वी कोसी तटबंध के अंदर लोगों को बाजार आने के लिए कोसी नदी में नाव की सवारी ही करनी पड़ती है। नाव पर सवार लोगों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो पाता है। सलखुआ प्रखंड के विभिन्न जगहों पर संचालित नाव में सवारी को लेकर सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं किया जा रहा है। कोसी नदी में प्रतिदिन नाव चल रही है। नाव में सवार लोग सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं कर रहे हैं। इससे कोरोना का खतरा बढ़ सकता है। प्रतिदिन नाव पर आने-जाने वाले आसपास के गांव के लोग एक-दूसरे से मिलकर नाव की सवारी करते हैं। इस कोसी नदी घाटों से प्रतिदिन सैकड़ों लोग नदी पार कर विभिन्न गांव आते-जाते हैं। जिसमें बड़ी संख्या में आसपास समेत दूर-दराज के लोग आवाजाही करते हैं। खासकर कोसी दियारावासी पशुचारा के लिए प्रतिदिन नाव की सवारी करते हैं। जहां पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन असंभव हो जा रहा है। नाव परिचालन कर रहे नाविक का कहना है कि हमलोग मना करते हैं, लेकिन लोग मानते नहीं हैं। नाव पर सवार लोगों द्वारा भी मास्क नहीं लगाया जाता है।

No comments:

Post a comment