कटैया : लॉकडाउन में भी खुले रहते हैं होटल, लोगों में संक्रमण का भय - Dildarnagar News | Ghazipur News✔ ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | लेटेस्ट न्यूज़ इन हिंदी ✔

Breaking News

Thursday, 30 April 2020

कटैया : लॉकडाउन में भी खुले रहते हैं होटल, लोगों में संक्रमण का भय



कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन लगाया गया है और सरकार द्वारा घर से बाहर नहीं निकलने की अपील की जा रही है। बहुत जरूरी कार्यों में घर से निकलने पर सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने की बात लगातार पुलिस और प्रशासन द्वारा बताई जा रही है। ताकि कोरोना के संक्रमण से सभी को बचाया जा सके। बावजूद बीते कुछ दिनों में कोरोना अपने पांव आस-पास के पड़ोसी जिले तक पसार चुका है। जिस कारण जिले की अन्य जिले से लगने वाली सभी सीमा भी सील कर दी गयी है। लेकिन इन सबका बावजूद भीमनगर ओपी क्षेत्र के कटैया पावर हाउस के आस-पास असर नही पड़ा है। जहां अब भी प्रतिबंध के बावजूद होटल का कारोबार बेरोकटोक जारी है।
बंद रहता है होटल का मेन गेट, बगल की गली से अंदर आते हैं ग्राहक
वहीं रोज समोसे एवं जलेबियों के शौकिनों का जमावड़ा होता है। होटल के मुख्य द्वार को बंद कर बगल वाली गली से हर शाम गरमा-गरम समोसे और जलेबियां लोगों को परोसी जाती है। जहां 10 गुणा 15 के कमरे में एक साथ 20 से 25 लोग बैठकर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाते हुए प्रशासन के सारे दावों को झूठा करार देते हैं। इस संबंध ने स्थानीय लोगों का कहना है कि लॉक डाउन तो हुआ। लेकिन यह दुकान कभी बंद नही हुआ। उल्टे सामानों का दाम बढ़ गया। पहले 15 रुपए में दो पीस समोसे मिलते थे। लेकिन अब 10 रुपये में एक समोसे मिलते हैं। वही कुछ स्थानीय लोगों का मानना है कि प्रशासन की बंदी के बावजूद एक छोटे से कमरे में बारी-बारी से दर्जनों लोग आते हैं। जिससे कोरोना के संक्रमण का खतरा मंडरा रहा है। किसी प्रकार के सोशल डिस्टेंसिंग का भी ख्याल नही रखा जा रहा है। इस बाबत कई बार भीमनगर ओपी प्रभारी को सूचना दी गयी। उन्होंने आकर दुकान बंद भी कराया। लेकिन उनके जाते ही होटल फिर से सज जाती है। यह केवल एक उदाहरण है, ऐसे कई होटल अब भी चल रहे हैं। जहां लोग चोर दरवाजे से लिट्‌टी, समोसे, जलेबी का आनंद लेने पहुंचते हैं। इस संबंध वीरपुर एसडीएम सुभाष कुमार ने बताया कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। अभी तुरंत थाना प्रभारी से बात कर कार्रवाई की जाएगी।

No comments:

Post a comment